ग्रामोदय

Contact : 8816904904, 6396764525
email : gramodayharyana@gmail.com

Educational

दशम गुरु गोबिंद सिंह ने क्षत्रिय तेज को फिर से जगाया : डॉ. चौहान

FacebooktwitterredditpinterestlinkedinmailFacebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

करनाल। खालसा पंथ की स्थापना करते हुए दशमेश पिता श्री गुरु गोविंद सिंह जी ने एक साथ कई सामाजिक रूढ़ियों पर आघात किया था। उनका मक़सद भारतीय समाज में कमज़ोर पड़ गए संघर्ष के सामर्थ्य अर्थात क्षात्र तेज़ को नए सिरे से प्रबल कर समाज को उस दौर के कट्टर और धर्मांध शासकों का मुक़ाबला करने में सक्षम बनाना था। हरियाणा ग्रंथ अकादमी के उपाध्यक्ष और निदेशक डॉ. वीरेंद्र सिंह चौहान ने भारतीय नूतन वर्ष व खालसा पंथ के स्थापना दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में यह टिप्पणी की।

रेडियो ग्रामोदय के इस विशेष कार्यक्रम में अतिथियों व श्रोताओं से रूबरू डॉ. चौहान ने कहा कि खालसा बनने के लिए जो लोग आगे आए उसमें समाज की विभिन्न जातियों और देश के विभिन्न हिस्सों के लोग थे। हम यह कह सकते हैं कि ख़ालसा सजाने की प्रक्रिया में श्री गुरु गोबिंद सिंह ने सब को साथ लिया। गुरु नानक खालसा कॉलेज करनाल के प्राचार्य डॉ. मेजर सिंह और राजकीय महाविद्यालय अम्बाला कैंट में इतिहास के प्राध्यापक डॉ. अतुल यादव ने इस कार्यक्रम में बतौर विशेषज्ञ खालसा पंथ की स्थापना और जलियांवाला बाग़ नरसंहार के समय की परिस्थितियों पर विस्तार से चर्चा की।

डॉ. मेजर सिंह ने कहा कि ख़ालसा का अर्थ है सब प्रकार से शुद्ध आचरण करने वाला व्यक्ति। उन्होंने कहा कि श्री गुरु गोबिंद सिंह जो अपने अनुयाइयों से करवाना चाहते थे उसे स्वयं करके अपने आचरण से सिद्ध करते थे। उन्होंने कहा कि गुरु गोबिंद सिंह अद्भुत शस्त्रधारी थे तो शास्त्र और साहित्य के निष्णात विद्वान भी थे। एक ही शख़्सियत के भीतर यह सारे गुण विरले ही मिला करते हैं।

बक़ौल डॉ. अतुल यादव जलियांवाला बाग़ में अंग्रेजों ने जिस जघन्य नरसंहार को अंजाम दिया उसने भारतीय स्वतंत्रता संग्राम की दिशा बदल डाली। अनेक युवा क्रांतिकारी इस घटना के बाद क्रांति की राह पर निकले और उन्होंने आज़ादी की लड़ाई में अहम भूमिका निभाई। उन्होंने कहा कि स्वाधीनता संग्राम में क्रांतिकारियों की भूमिका को कम करके नहीं आंका जा सकता।

पाठ्यक्रमों में भारतीय महापुरुषों की बलिदान गाथा शामिल हो

रेडियो ग्रामोदय के कार्यक्रम में शामिल तीनों शिक्षाशास्त्री इस बात पर सहमत थे कि हमारे स्कूल और कॉलेज के पाठ्यक्रमों में भारतीय महापुरुषों के संघर्ष और बलिदान के किस्से कायदे से नहीं पढ़ाए जा रहे। उन्होंने माना कि इस दृष्टि से पाठ्यक्रम में बदलाव समय की आवश्यकता है। हरियाणा ग्रंथ अकादमी उपाध्यक्ष डॉ. वीरेंद्र सिंह चौहान ने इस संबंध में कहा कि नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति शिक्षा और पाठ्यक्रम को भारत केंद्रित बनाने की वकालत करती है। पाठ्यक्रम में परिवर्तन का रास्ता इसी नीति परिवर्तन से निकलेगा और यह कार्य आने वाले कुछ वर्षों में देश के शैक्षिक नेतृत्व को संजीदगी और सावधानी के साथ करना पड़ेगा।

FacebooktwitterredditpinterestlinkedinmailFacebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

केवल प्राचीनतम ही नहीं अपितु सबसे वैज्ञानिक राष्ट्र के नागरिक होने पर गर्व करें : डॉ. चौहान

FacebooktwitterredditpinterestlinkedinmailFacebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

गीता सीनियर सेकेंडरी स्कूल, राहडा में गणतंत्र दिवस का आयोजन

असंध । गणतंत्र दिवस पर होने वाले प्रत्येक ध्वजारोहण प्रत्येक आयोजन प्रत्येक ताली प्रत्येक गीत पर सबसे पहला अधिकार बलिदानी वीरों का है जिन्होंने अपना सर्वस्व इस देश पर न्योछावर कर दिया। राणा स्थित गीता सीनियर सेकेंडरी स्कूल में गणतंत्र दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में हरियाणा ग्रंथ अकादमी के उपाध्यक्ष डॉ वीरेंद्र सिंह चौहान ने यह टिप्पणी की।
विद्यालय चेयरमैन सुरेंद्र राणा की अध्यक्षता में संचालित कार्यक्रम में डॉ चौहान ने मातृभूमि पर न्योछावर सभी वीरों को श्रद्धांजलि दी। क्रांति के नायकों का स्मरण करते हुए डॉ चौहान ने सभी विद्यार्थियों व शिक्षकों से उनके अनुसरण का आवाहन किया।
विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए अकादमी उपाध्यक्ष ने कहा कि हमें इस बात पर गर्व करना चाहिए कि जब विश्व के अन्य देशों का राष्ट्र की परिकल्पना से परिचय भी नहीं था , उससे बहुत पहले से भारत एक राष्ट्र के रूप में अस्तित्व में था। विश्व के विभिन्न स्थानों से लोग ज्ञान प्राप्ति व चरित्र निर्माण हेतु भारत के तक्षशिला और नालंदा स्थित विश्वविद्यालय में आते थे।
उन्होंने बताया कि विश्व में हुए अनेक वर्तमान शोध प्रक्रिया ने वृहद स्तर पर सिद्ध किया है कि भारतीय मनीषी पृथ्वी के आकार, सूर्य से उसकी दूरी व अन्य विभिन्न खगोलीय घटनाओं तथा गणनाओं के बारे में पहले से जानते थे। भाषा से जुड़े विभिन्न शोध संस्कृत को विश्व की सबसे अधिक वैज्ञानिक और कंप्यूटर के अनुकूल भाषा के रूप में प्रतिपादित कर चुके हैं।

कार्यक्रम में विद्यार्थी अमृता, मुस्कान, स्नेहा, काजल, अंजली, नेहा, अनु और साहिल में रंगारंग प्रस्तुतियां दी। कार्यक्रम का संचालन शिक्षिका टीना ने किया।

कार्यक्रम के अंत में प्रबंधक रणदीप राणा ने सभी शिक्षकों व विद्यार्थियों का धन्यवाद किया। इस अवसर पर विद्यालय के शिक्षकों, विद्यार्थियों के साथ नीटू राणा, पंच सुरेंद्र व पंच संदीप उपस्थित थे।

FacebooktwitterredditpinterestlinkedinmailFacebooktwitterredditpinterestlinkedinmail
Open chat
Gramoday
Hello ,
How can we help you with Gramoday